मेवात (नूँह)

हरियाणा के सभी 22 जिले
Spread the love

ईन प्रशनों से रिलेटिड Video आप हमारे YouTube चैनल पर भी देख सकते हैं click here

भारत का पहला चल न्यायालय
स्थापना – 4 अप्रैल 2005

    मेवात (नूँह)

इस जिले में हरियाणा का सबसे अधिक लिंगानुपात है। 907/1000

  1. मुख्यालय – नूँह
  2. उप-मंडल – फिरोजपुर, झिरका, नूँह।
  3. तहसील – फिरोजपुर, झिरका, नूँह, पुन्हाना, तावडू।
  4. उप-तहसील – नगीना
  5. खंड – फिरोजपुर, झिरका, पुन्हाना, नगीना, नूँह और तावडू।
  6. क्षेत्रफल – 1507 वर्ग किलोमीटर
  7. जनसंख्या – 10 लाख 89 हजार 406
  8. साक्षरता दर –08%

(मेवात हरियाणा का सबसे कम साक्षरता दर वाला जिला है।)

(हरियाणा में सबसे अधिक साक्षरता दर गुरुग्राम की है।)

  1. पुरुष साक्षरता –94%
  2. महिला साक्षरता –6%

नामकरण

  1. 4 अप्रैल सन 2005 को कांग्रेस सरकार ने इसका नाम बदलकर मेवात कर दिया।
  2. गांधीजी का नारा था सत्यमेव जयते, इसी का अनुसरण करते हुए हरियाणा के 20वें जिले का नाम सत्यमेवपुरम रखा गया।
  3. वर्ष 2005 में कांग्रेस सरकार के गठन के पश्चात ईस जिले का नाम मेवात रखा गया।
  4. 12 अप्रेल 2016 को हरियाणा सरकार ने मेवात का नाम बदलकर नुँह कर दिया।

नूँह का इतिहास

  1. यह हरियाणा का 20वां जिला है और नूँह को मेवात जिले का मुख्यालय बनाया गया है।
  2. 4 अप्रैल 2005 को गुड़गांव और फरीदाबाद जिलों में से कुछ भाग अलग कर मेवात जिले के हिस्से बना दिए गए।
  3. हरियाणा के तत्कालिक मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला ने 2 अक्टूबर 2004 को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और स्वर्गीय प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर राज्य के 20वे जिले की घोषणा की थी। उस समय इस जिले का नाम सत्यमेवपुरम रखा गया था। इस जिले का मुख्यालय नूँह में बनाया गया था।
  4. भारत की स्वतंत्रता पर बटवारे के समय मेवात की बहुसंख्यक मुस्लिम जनता जब भारत छोड़कर पाकिस्तान जा रही थी, तब महात्मा गांधी ने उन्हें रोकते हुए समान व्यवहार, संपूर्ण सुरक्षा और विकास की पूरी गारंटी दी थी।
  5. मेवात जिले का अधिकतर भाग समतल है। मेवात का कुछ भाग अरावली की पहाड़ियों से सटा हुआ है। यहां रहने वाले अधिकतर लोग मेव या मुस्लिम हैं।
  6. मेवात में आई.टी.सी द्वारा संचालित गोल्फ कोर्स मशहूर है। इसके अलावा जयपुर हाईवे पर स्थित रिसोर्ट कंट्री क्लब भी यहां का एक प्रमुख पर्यटक स्थल है।
  7. समाजिक व आर्थिक रुप से यह क्षेत्र हरियाणा राज्य का सबसे अधिक पिछड़ा हुआ क्षेत्र माना जाता है। सन् 1980 में हरियाणा सरकार ने इस क्षेत्र के विकास के लिए वचनबद्ध होकर मेवात विकास बोर्ड का गठन किया।

नूँह के मुख्य पर्यटन स्थल

  1. चूहीमल तालाब – पहले यह तालाब कच्चा था। वर्षाकाल में काला पहाड़ की छाती से बहकर आने वाली विशाल जलराशि को देखते रहने की नूँह वासियों की सदियों पुरानी परंपरा उस समय सजीव हो उठी, जब सेठ चूहीमल ने नूँह के पश्चिम में पहाड़ के नीचे 10 बीघा जमीन के दाम चुका कर उसे तालाब के इस्तेमाल के लिए खरीद लिया था। उनके जीवनकाल में ही उनके पुत्र हुकमचंद ने अपने पिता की स्मृति को चिरस्थाई बनाने के लिए तालाब को पक्का करवाया और वही निकट ही एक कलात्मक छतरी भी बनवाई। कारीगरों ने इस तालाब के पक्के निर्माण में कुछ ऐसा वास्तुशिल्प दिखाया है कि यह निर्माण बेजोड़ सा प्रतीत होता है।
  1. काउंटी क्लब गोल्फ कोर्स – गांव पांड़ा तावडू में स्थित काउंटी क्लब बेस्ट वेस्टर्न द्वारा मान्यता प्राप्त हैं। यहां पर देश-विदेश के कॉफी पर्यटक आते हैं। यह अंतरराष्ट्रीय स्तर का गोल्फ कोर्स है।

 

  1. कोटला झील – कोटला झील मेवात की ही नहीं बल्की एशिया की सबसे बड़ी झील मानी जाती है। इस झील के विहंगम दृश्यों के बारे में मुगल बादशाह बाबर ने बाबरनामा में भी उल्लेख किया है।
  2. शेख मूसा की मजार – मेवात की धरती पीर-फकीरों तथा ऋषि-मुनियों की कर्म स्थली भी रही है। हजरत शेख मूसा का संबंध ईरान से बताया जाता है। वह दिल्ली के प्रसिद्ध सूफी हजरत निजामुद्दीन औलिया के मुरीद थे। हजरत शेख मूसा की दरगाह पल्ला गांव में पहाड़ी की तलहटी में है। यह दरगाह मुगल बादशाह अकबर ने बनवाई थी।

 

  1. तावडू का किला – तावडू नामक ग्राम में स्थित ईस प्राचीन किले के विभिन्न कक्षों, उप-कक्षों तथा अन्य स्थलों से तावडू के इतिहास की जानकारी मिलती है। इस किले के चारों ओर ऊंची-ऊंची दीवारें बनी हुई हैं। यही किला बाद में राजा नाहर सिंह का किला बना। इस समय तावडू स्थित इस किले को वहां का थाना बना दिया गया।
  1. तावडू के गुंबद – तावडू की पश्चिम दिशा में जगह-जगह अनेक गुंबद बने हुए हैं। क्षेत्र के लोगों की दृड मान्यता है कि ये गुंबद मुगलकालीन शासन में बने थे। अपने समय में इनका बहुत बड़ा महत्व था। इन गुंबदों में पुख्ता कबरें मौजूद हैं।

 

  1. मेवात में लचीले खिलौने बनाने का प्रशिक्षण उत्पादन केंद्र – आई. PMT कोलकाता (खिलौना बनाने का प्रौद्योगिकी संस्थान)  लचीले खिलौने बनाने के प्रशिक्षण के क्षेत्र में एक अनुभवी संगठन है।

नूँह की प्रमुख झील

  1. चंदेली झील – मेवात
  2. संगेली (उजीणा) झील – मेवात
  3. झूलती मीनार – नूंह
  4. छुई-मुई तालाब – नूंह

नूँह के महत्वपूर्ण धार्मिक स्थल

  1. देहरा मंदिर – फिरोजपुर झिरका
  2. शिव मेला – पुन्हाना

नूँह की कुछ महत्वपूर्ण खास बातें

  1. हरियाणा में सबसे ज्यादा मुस्लिम मेवात में रहते हैं।
  2. मेवात का प्रसिद्ध नृत्य रतवाई है।
  3. यह क्षेत्र आज भी पूरे देश में सबसे अधिक पिछड़ा हुआ है।
  4. शहीद हसन खा मेवाती सरकारी कॉलेज मेवात नगर के नल्हड मे 2013 में स्थापित किया गया।
  5. यहां पर गांधी पार्क प्रमुख पर्यटक स्थल है
  6. 1793 में चार्ज थामस ने ईस क्षेत्र को मराठों को सौंप दिया था।
  7. यहां पर स्थित ढौड़ का किला फिरोजशाह तुगलक द्वारा बनाया गया था।
  8. 9 दिसंबर 1947 को महात्मा गांधी मेवात के घासेड़ा में आए थे। इस कारण घासेड़ा को गांधीग्राम भी कहते हैं।
  9. 12 अगस्त 2017 को तावडू को उपमंडल का दर्जा दिया गया।

नूँह के प्रमुख व्यक्ति

  1. हसन खां मेवाती – ये मेवात से संबंधित हैं। इन्होंने 1527 में खानवा के युद्ध में राणा सांगा का साथ दिया और वीरगति को प्राप्त हुए। हसन खां मेवाती कॉलेज का नाम ईन्ही के नाम पर रखा गया है।
  2. सदरूद्दीन – इन्होंने 1857 कि क्रान्ति मे मेवात का नेतृत्व किया।
  3.  
हसन खां मेवाती
  • तय्यब हुसैन – यह हरियाणा के एकमात्र ऐसे व्यक्ति हैं जो 3 राज्यों के मंत्री रह चुके हैं।
  1. ख्वाजा अहमद – यह एक प्रसिद्ध पत्रकार व लेखकार है।
  2. मोहम्मद यासीन खां

नूँह के प्रमुख उद्योग

  • चल न्यायालय ईसकी स्थापना सन 2007 में की गई। यह हरियाणा का ही नहीं बल्कि भारत का पहला चल न्यायालय है। जिसका उद्घाटन बालकृशन के द्वारा किया गया। चल- न्यायालय की अवधारणा भारत के पूर्व राष्ट्रपति ए.पी.जे. अब्दुल कलाम के द्वारा दी गई।
  • प्रमुख नदीयमुना
No Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

हरियाणा GK
चंडीगढ़
Spread the love

Spread the love गुलाब के फूल का सबसे अधिक उत्पादन चंडीगढ़ में होता है। सिर – कैपिटल परिसर (सेक्टर 1)दिल – सिटी सेंटर (सेक्टर 17) नामकरण चंडी मंदिर के नाम पर इसका नाम चंडीगढ़ रखा गया। चंडीगढ़ का इतिहास यहां पर खुले हाथ स्मारक की स्थापना “ली कार्बुजियर” द्वारा सन …

हरियाणा के सभी 22 जिले
अंबाला
Spread the love

Spread the love ईन प्रशनों से रिलेटिड Video आप हमारे YouTube चैनल पर भी देख सकते हैं click here हरियाणा मे आम का सबसे अधिक उत्पादन अंबाला में होता है। मुख्यालय – अंबाला लिंगानुपात – 882/1000 जनसंख्या – 1128350 स्थापना – 1 नवंबर 1966 उप-मंडल – अंबाला, नारायणगढ़, बराड़ा तहसील …

हरियाणा के सभी 22 जिले
हिसार
Spread the love

Spread the love ईन प्रशनों से रिलेटिड Video आप हमारे YouTube चैनल पर भी देख सकते हैं click here हरियाणा के गठन के समय इस में 7 जिले बनाए गए थे। जिसमें सबसे बड़ा हिसार को बनाया गया। हिसार के गठन के समय ईसका क्षेत्रफल 13891 वर्ग किलोमीटर था। जो …