भारत में पवन ऊर्जा की स्थिति

Spread the love

भारत में पवन ऊर्जा उद्योग की स्थापना 1980 के दशक के अंत में हुई थी। स्थापना के कई वर्षों तक यह केवल तमिलनाडु राज्य में कार्यरत रही। परंतु, पिछले एक दशक से यह देश के तकरीबन आठ अन्य राज्यों में भी प्रसारित हो गई है।

वर्तमान में पवन ऊर्जा क्षेत्र के कुल आठ राज्यों में मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात के साथ-साथ राजस्थान जैस पश्चिमी राज्य भी शामिल है।

इस क्षेत्र में बढ़ती आशावादिता की मुख्य वज़ह यह है कि केंद्र सरकार पवन ऊर्जा उत्पादकों सेgk_tricks विद्युत की खरीद करके इसे अन्य विद्युत आपूर्तिकर्ता कंपनियों को बेचना चाहती है, ताकि देश के ऐसे गरीब क्षेत्रों तक भी विद्युत की आपूर्ति सुनिश्चित की जा सके जिन्हें अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिये महँगे संसाधनों पर निर्भर रहना पड़ता है

वस्तुतः देश के प्रत्येक कोने को प्रकाशमयी बनाने के उद्देश्य से भारत सरकार इस दिशा में एक वास्तविक व्यापारी की भूमिका का निर्वाह कर रही है।

गौरतलब है कि पवन ऊर्जा के क्षेत्र में 32,280 मेगावाट की क्षमता के साथ भारत का चीन, अमेरिका तथा जर्मनी के बाद विश्व में चौथा स्थान है।

इतना ही नहीं वरन् वर्ष 2022 तक भारत की पवन ऊर्जा क्षमता को वर्तमान के स्तर से बढ़ाकर 60 गीगावाट तक लाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

ध्यातव्य है कि भारत की संपूर्ण ऊर्जा क्षमता में 3.2 लाख मेगावाट ऊर्जा के साथ पवन ऊर्जा का योगदान तकरीबन 10 फीसदी का है।

इन दिशा-निर्देशों के अनुपालन से न केवल पवन ऊर्जा क्षेत्र को बढ़ावा मिलेगा, बल्कि इससे ऊर्जा के स्रोतों में भी वृद्धि होगी। इससे वे राज्य जहाँ तेज हवाएँ चलती हैं स्वयं पवन ऊर्जा खरीद के लिये बोली में भाग लेने की सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। इसके अतिरिक्त पवन ऊर्जा परियोजनाओं की गुणवत्‍ता सुनिश्चित करने के लिये एक ऐसे विस्‍तृत दस्‍तावेज की जरूरत है, जिसमें हितधारकों यानी OEM, स्‍वतंत्र बिजली उत्‍पादकों, पवन कृषि डेवलपरों, वित्‍तीय संस्‍थानों आदि द्वारा सुरक्षित और विश्‍वसनीय संचालन के लिये पवन टरबाइन द्वारा संकलित संपूर्ण तकनीकी आवश्‍यकताओं का प्रावधान हो।

No Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अन्य
United Nations Organization, Security Council, International Courts and Major Organizations.
Spread the love

Spread the love 1. संयुक्त राष्ट्र अथवा यूनाइटेड नेशन का नाम किनके द्वारा प्रदान किया गया ? अमेरिका के राष्ट्रपति फ्रैंकलिन–डी–रूजवेल्ट 2.संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना कब हुई ? 24 अक्टूबर 1945 3.संयुक्त राष्ट्र की स्थापना के समय इसके सदस्य देशों की संख्या कितनी थी ? 51 4. 26 जून …

अन्य
The princely states and the reasons taken by the East India Company in Haryana
Spread the love

Spread the love 1. यमुनानगर छिछरोली – 1818 इस्वी में रानी रामकौर की अयोग्यता के कारण व जोधा सिंह के हस्तक्षेप के कारण रियासत छीनी गई। 1828 में राजा दला सिंह की विधवा सरदारनी इंद्र कौर की मृत्यु के कारण उनकि रियासत छीनी गई। 2. सिरसा रानिया – यहां 1818 …

अन्य
First women of India
Spread the love

Spread the love भारत कि महिलाओं में प्रथम 1.भारत की प्रथम महिला राष्ट्रपति कौन थी ? श्रीमती प्रतिभा देवी सिंह पाटिल  2.भारत की प्रथम महिला प्रधानमंत्री कौन थी ? श्रीमती इंदिरा गांधी 3. भारत की प्रथम महिला लोकसभा अध्यक्ष कौन थी ? मीरा कुमार 4.भारत की प्रथम महिला सांसद कौन …

%d bloggers like this: